“मैं” के माईने

When life seems meaningless self love and self worth becomes a question for us. Just like in winter leafless trees appear depressing. There are times when even the encouraging words do not help. At such a time, if we see respect, appreciation and love for us in others eyes, we start loving ourselves again. That is the time when we realise, “It was just a phase”, which passed by and we discover a new and better version of ourselves! Just like Spring brings re-generation after a harsh Winter!

Therefore I believe, whenever we see anything worth acknowledging in others, always appreciate. As it can lift someone’s day, or someone’s life. That’s how when we see goodness in others, we also feel good about the the world we live in. My new poem “Main” ke Maine is all about when the special one comes in our life, and his/her perception about us changes our perception about ourselves.

जब तुम्हारी नज़रो में मैने खुदको देखा…. 

खुद से मेरी नई पहचान  हुई… 

एक नई मै को मैने देखा…  एक नई मै जाना…

अपने ही  दिल  कीं नई राह मिली

पिले पत्तो को जब सर्द हवा चुराती हैं… 

पत्तो के साथ कही आस भी खो जाती हैं… 

दरख़्त को भी लागा शायद यूही होना एक दिन.. 

पर अपने अक्स को झील देखकर तनहाई  दर्द दे जाती है

सबकी आँखों में मै खोजती अनकहे  सावलो के जवाब .. 

सोचती हूं शायद कोई समझ जाए मेरे आँखों के सवाल… 

पर तनहाई हैं लोगो कीं भीड में भी यहाँ… 

तो किस से करू मै हालात बयान..?

 

बेखबर थी खुशियो कीं आहट से मै… 

किस्मत से जैसे हार गई थी मै.. 

वो तुम्हारी दस्तक थी,  या फिर बहार आई.. 

सुखे डालीयो में जैसे जान आई…  

तुम्हारी नज़ारो में खुद के माईने जानकर 

खुद से नयी पहचान हुई… 

खामखा सी लागती जिंदगी को.. जीने कीं वजह मिली

तुम्हारी नज़ारो में खुदको देखकर… 

 मुझे मेरी अहमियत भी अब समझ गई

 

लेहलहती हैं टहनियाँ दुबारा… हरियाली का ताज पहेनकर… 

वो उदासी का मौसम ही था शायद… जो बदल दिया बसंत ने बहार लाकर 

Meenal

One thought on ““मैं” के माईने

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: